Krishna ji ki payal

Krishna ji ki payal से पहले यह जाने कि भगवान विष्णु के 8 वें अवतार श्री कृष्ण कहा जाता है श्री कृष्ण भगवान विष्णु के पूर्ण अवतार थे शायद इसी कारण श्री कृष्ण के मस्तक पर सजे हुए मोर पंख से लेकर पैरों के तलवे में रहने वाले चिन्ह तक सभी चीजों में अलग अलग तथ्य से जुड़ी कहानी छुपी हैं उसी में से एक है श्री कृष्ण के पैरों की पायल

Krishna ji ki payal choti badi q h?

Krishna ji ki payalकहा जाता है कि श्री कृष्ण के दाएं पैर की पायल बाएं पैर की पायल से छोटी है लेकिन इन पायलों की छोटी बड़ी  होने के पीछे का क्या कारण छुपा है आइए जानते हैं

इस कहानी की शुरुआत होती है त्रेता युग के शुरुआती समय में उस समय विश्व घोष नाम के एक ऋषि हुआ करते थे उनका एक शिष्य था करनव

सभी शिष्यों की तरह करनव भी अपने गुरु के प्रति समर्पित था और वह अपने गुरु की पूरी श्रद्धा के साथ सेवा भी किया करता था । करनव को पता था कि उसके गुरुदेव विष्णु जी के परम भक्त हैं और गुरु के साथ अधिक समय व्यतीत करने के कारण करनव जान चुका था कि उस के गुरुदेव का अंतिम लक्ष्य था।

भगवान विष्णु जी के चरणों में स्थान मिलना । रोज़ की तरह उस दिन भी का करनव गुरुदेव के पैर दबा रहा था अचानक गलती से उसके नाखून के कारण उसके गुरुदेव के पैरों में खरोच आ गया और वहां से खून बहने लगा यह देखकर करनव के गुरु बहुत ही क्रोधित हुए और

करनव को श्राप दे दिया कि इस जानवर की तरह आचरण करने के कारण अगले जन्म में तुम मेढ़क का जन्म लोगे । यह सुनकर करनव उनके पैरों में गिर गया और कहने लगा कि गुरुदेव मैंने यह जानबूझकर नहीं किया है। मैं तो आपका प्रिय शिष्य हूं क्या आपको सच में लगता है कि मैं आपको जानबूझकर हानि पहुंचा सकता हूं
गुरुदेव भी सोचने लगे कि सच में करनव बहुत निष्ठा के साथ उसकी सेवा करता  है । इसी लिए ऋषि का क्रोध  शांत हुआ और वह करनव को बोले मैं  अपना श्राप वापस नहीं ले सकता हूं लेकिन तुम्हारा यह मेंढक वाला जन उद्धार  प्रभु श्री राम करेंगे। यह बोल कर वह चले गए

हमारी वेबसाइट पर विजिट करे

Krishna ji ki payal

जब माता सीता को लंकापति रावण ने हरण किया था तब  श्री राम जी एक पेड़ के नीचे अपना धनुष रख के बहुत जोर जोर से रोने लगे इतना जोर से रो रहे थे कि उनके आंसू जमीन पर गिर रहे थे लेकिन जब लक्ष्मण जी ने  जमीन की तरफ़ देखा तो आंसू की जगह खून बह रहा था यह देखकर लक्ष्मण जी हैरान हुए  ध्यान से देखने के बाद उन्होंने देखा कि जब राम जी ने अपना धनुष रखा तो धनुष के नीचे एक मेढ़क आ गया था

वह अभी बहुत बुरे तरीके से घायल था और मरने की कगार पर था यह देख कर श्री राम जी बोले जब कोई मेंढक को सांप पकड़ने के लिए आता है तो वह बहुत जोर जोर से आवाज करता है लेकिन जब मैंने धनुष उसके ऊपर रखा तो उसने थोड़ा सा भी आवाज नही किया ऐसा क्यू

तब वह मेढ़क बोला परभु जब कोई सांप मेरा आहार करने के लिए आता है तो मैं  आपका स्मरण करता हूं कि प्रभु मेरी रक्षा करना लेकिन यहां पर तो आप खुद ही मेरा वध कर रहे थे तो मैं किसके पास प्रार्थना करता बस इसी  कारण मैं चुप था एक साधारण मेंढक बोल रहा है देखकर श्रीराम समझ गई है यह कोई साधारण मेंढक नहीं है

श्री राम जी  मेंढक का असली परिचय पूछते हैं तो मेंढक बोलता हैं कि मेरा नाम करनव है। उसके गुरु के श्राप के कारण उसने मेंढक का जन्म लिया है और राम जी को उसने  पिछले जन्म की कहानी पूरे विस्तार से बताई

उसके साथ साथ उसने यह भी बताया की उसकी मृत्यु उसके पिछले जन्म से श्री राम के हाथो से निर्धारित थी
इसीलिए  राम जी उसके मृत्यु के भागीदार नही है । श्री राम जी खुद को उसके मृत्यु का दोषी न ठहराए

मेंढक का निस्वार्थ भाव  देखकर प्रभु श्री राम बड़े प्रसन्न हुए और उन्होंने कहा मैं तुम्हारे प्राण तो नही लौटा सकता हूं परंतु तुम मुझे अपनी आखिरी इच्छा बोल सकते हो
मैं उसको अवश्य पूर्ण करुंगा

Krishna ji ki payal बनने का आशिर्वाद

तब करनव बोले प्रभु मैं हमेशा अपने गुरुदेव की सेवा करते आ रहा हूं और मैंने उनको आपके प्रति भक्ति करते हुए देखा है और यह भी जाना है कि मेरे गुरुदेव के जीवन का अंतिम लक्ष्य आपके चरण में स्थान मिलना ।

तो प्रभु मैं खुद के लिए कुछ नहीं चाहता हूं लेकिन मेरे गुरुदेव को आप अपने चरणों में स्थान दीजिए गुरु के प्रति शिष्य का यह भाव देखकर और एक बार फिर से पुरुषोत्तम रामचंद्र जी बड़ा प्रसन्न होते हैं ।

तब प्रभु श्री राम करनव को आशीर्वाद देते हैं कि द्वापर युग में जब वह श्री कृष्ण का जन्म लेंगे तब गुरु के साथ साथ उनको भी अपने चरणों में स्थान देंगे। जैसे  शिष्य गुरु से कभी बड़ा नहीं होता है इसीलिए श्री कृष्ण के दाएं पैर में छोटी पायल बनके वह रहेगा और उसके गुरु श्री कृष्ण के बाएं पैर में बड़ी पायल बनके रहेंगे इसीलिए श्री कृष्ण के दाएं  पैर की पायल बाएं पैर की पायल से छोटी है।

उम्मीद है आपको श्री कृष्ण Krishna ji ki payal से जुड़ी जानकारी आप लोगों को पसंद आई है । अगर आपको यह वीडियो पसंद आई हो तो कृपया वीडियो को लाईक करें और ऐसे ही हिंदू धर्म से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमारे चैनल को subscribe करे

Leave a Comment